रवीश कुमार का प्राइम टाइम: प्रेस की आज़ादी पर सरकारी विज्ञापनों का डंडा

PUBLISHED ON: September 16, 2020 | Duration: 40 min, 58 sec

  
loading..
सुप्रीम कोर्ट में सुदर्शन टीवी के प्रसारण पर रोक के बहाने कई सवाल खड़े हो गए हैं. ये वो सवाल है जो कोर्ट के भीतर और बाहर कई मौकों पर उठते ही रहते हैं. क्या कोर्ट के यह सवाल मीडिया की भूमिका उसके फंडिग में कोई बदलाव ले कर आएंगे या फिर अदालत आगे बढ़ जाएगी. पूरी बहस को दो हिस्सों में रखकर देखा जा सकता है. पत्रकारिता की स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और बैन किया जाना दूसरा हिस्सा है विज्ञापन और फंडिग का.
ALSO WATCH
रवीश कुमार का प्राइम टाइम: उत्तर प्रदेश में क़ानून व्यवस्था तार-तार क्यों?

Related Videos

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com