रवीश की रिपोर्ट: आदिवासी होना पायल तड़वी का गुनाह हो गया?

PUBLISHED ON: May 27, 2019 | Duration: 13 min, 14 sec

  
loading..
22 मई की रात जब ये देश लोकसभा के नतीजों का इंतज़ार कर रहा था, तब किसी को नहीं मालूम था कि पायल ताडावी नाम की एक 26 साल की लड़की ख़ुदकुशी की योजना बना रही है. वो डॉक्टर थी. मुंबई के बीवाईएल नायर अस्पताल में सेकंड ईयर रेज़िडेंट डॉक्टर. जब उसने डॉक्टर बनने का सपना देखा होगा तो ये मासूम सा खयाल भी उसके भीतर रहा होगा कि वो लोगों की जान बचाएगी. उसका एक भाई विकलांग है. पायल की मां बताती हैं कि भाई की हालत देखकर भी उसने डॉक्टर बनने की सोची थी. लेकिन हालात ऐसे बने कि उसने ख़ुद जान दे दी.
ALSO WATCH
रवीश कुमार का प्राइम टाइम: मेडिकल छात्र क्यों कर रहे हैं इच्छा मृत्यु की मांग?

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................