प्राइम टाइम : भाषा का अकेलापन और मृत्यु का समाज

PUBLISHED ON: March 17, 2017 | Duration: 35 min, 48 sec

   
loading..
सौ की संख्या में आए ये किसान तमिल में नारे लगा रहे हैं. शायद ही इनकी आवाज़ दिल्ली के आसपास के किसानों तक पहुंचे. भारत में किसान, किसान के लिए नहीं बोलता है. शहर, किसान के लिए नहीं बोलते है. नारों की भाषा बदल भी जाती तो भी इन्हें सुनने वाले लोग नहीं बदलते.
ALSO WATCH
केजरीवाल ने जल्द से जल्द जांच और दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................