मोहे रंग दे : 'लाली मेरे लाल की'

PUBLISHED ON: March 16, 2014 | Duration: 20 min, 00 sec

   
loading..
चारों तरफ बिखरे बहुत सारे रंगों के बीच लाल रंग जैसे पूरी सभ्यता का रंग हो जाता है। हमारे बाहर और भीतर दोनों की दुनिया इस रंग से लाल है। लाल रंग हमारी रगों में रहता है, हमारी नसों में बहता है − रक्त बनकर।
ALSO WATCH
बदायूं में भगवा रंग से रंगी आंबेडकर की मूर्ति

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................