सरकार, सपने और नया साल

PUBLISHED ON: December 30, 2011 | Duration: 37 min, 32 sec

   
loading..
दुनियाभर में लोग नए साल के आने के जश्न को मनाने में लगे हैं। कहते हैं कि रात गई, बात गई, लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ती संसद में बीती रात लोकपाल बिल लटक गया... क्या यह हमारे राजनेताओं की मंशा को जाहिर करता है...
ALSO WATCH
आज का एजेंडा : क्या न्यायपालिका से विश्वास उठ जाएगा?

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................