रवीश कुमार का प्राइम टाइम: आखिर क्या है नज थ्योरी?

PUBLISHED ON: July 4, 2019 | Duration: 9 min, 08 sec

  
loading..
रिचर्ड थेलर और कैस संसटीन ने एक किताब लिखी है जिसका नाम है नज: इम्प्रूविंग डिसीजन्स अवॉउट हेल्थ, वेल्थ एण्ड हैपीनेस. कैस संसटीन राष्ट्रपति ओबामा के सूचना सलाहकार थे. ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरून ने अपने ऑफिस में नज यूनिट बनाई थी जिसके सलाहकार रिचर्ड थेलर थे. इस किताब का कवर दिलचस्प है. हथिनी अपने बच्चों को हल्के से धकेलते हुए रास्ते पर ले जा रही है. इस किताब में दोनों लेखक समझा रहे हैं कि हमारे आंदोलन का नाम लिबर्टेरियन पैटर्नलिज्म. पैटर्नलिज्म से आप समझिए कि जैसे माता पिता बच्चे को बता रहे हैं कि उन्हें क्या करना है क्या नहीं करना है. जो लोग अंग्रेजी भाषा के मुहावरों का इस्तमाल करते हैं वो पैटर्नलिज्म का मतलब एक दूसरे अर्थ में करते हैं. जैसे आप उनकी लाइफ में बहुत दखल दें, उनके फैसलों पर इस तरह से दखल देते रहें कि आप से ज्यादा उन्हें या मां बाप को ज्यादा पता है. तो जवाब मिलता है कि ऐसा करने वालों का नजरिया बहुत ही पेटर्नलिस्टिक है या पेट्रनाइजिंग है. ये दोनों लेखक कहते हैं अच्छे मकसद के लिए नज किया जा सकता है. रिचर्ड और संसटीन ने इसे आंदोलन का रूप दिया है. उनका कहना है कि लोगों को आजादी होगी लेकिन उनकी बेहतरी के लिए जरा सा सौम्य तरीके से उनके व्यवहार को प्रभावित किया जा सकता है. क्योंकि कई बार लोग अपना फैसला गलत करते हैं.
ALSO WATCH
रवीश कुमार का प्राइम टाइम : CGL17, 69000 शिक्षक भर्ती से जुड़े परीक्षार्थियों को ट्रेंड कराकर क्‍या मिला?

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................