चले गए केदारनाथ सिंह, फीका पड़ा हिंदी कविता का आसमान

PUBLISHED ON: March 20, 2018 | Duration: 3 min, 55 sec

  
loading..
केदारनाथ सिंह की एक कविता है बनारस. कई बार लगता है कि बनारस बनारस से ज़्यादा उनकी कविता में है. हमने कोशिश की है कि कवि की विदाई में कोई कमी न रह जाए, फिर भी रह गई हो तो माफ कर दीजिएगा, अब ज़रा तस्वीरों के पीछे से आती आवाज़ के ज़रिए उनकी कविता को महसूस कीजिए, क्या पता केदानराथ सिंह बनारस में मिल जाएं.
ALSO WATCH
न्यूज टाइम इंडिया : PM ने किया जलमार्ग का उद्घाटन

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................