रवीश कुमार का प्राइम टाइम: सांप्रदायिक सद्भाव के नाम एक और नज्म

PUBLISHED ON: January 15, 2020 | Duration: 3 min, 38 sec

  
loading..
नागरिकता कानून के खिलाफ देश भर में हो रहे प्रदर्शन के बीच इसे लेकर कई तरह की नज्म लिखी जा रही हैं. कई ऐसी नज्मों को प्रदर्शन के दौरान या सोशल साइट्स पर साझा भी किया गया है जिसे काफी सराहना मिल रही है. इस कानून के खिलाफ कवियित्री और पत्रकार अतिका अहमद फारूकी ने भी एक ऐसी ही नज्म लिखी. अतिका ने अपनी नज्म को एनडीटीवी के साथ साझा भी किया.
ALSO WATCH
शाहीन बाग में सड़क पर ही खुली लाइब्रेरी

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................