रवीश उवाच : निजी राय रखने का स्टेटस

PUBLISHED ON: February 4, 2014 | Duration: 5 min, 00 sec

  
loading..
हमारी लोकतांत्रिक पार्टियों में निजी राय भी एक स्टेटस है। अगर आपकी हैसियत ठीक-ठाक है, तो आप निजी राय रखते हुए ऐसी राय रख सकते हैं, जिसे खुद पार्टी तक न रख पाए। जनार्दन द्विवेदी जाति आधारित आरक्षण के खिलाफ हो गए हैं। अभी तक कांग्रेस में उनके कोई खिलाफ नहीं हुआ है।
ALSO WATCH
'नरेंद्र मोदी की तारीफ' पर घिरे जनार्दन द्विवेदी

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................