धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला

PUBLISHED ON: September 5, 2018 | Duration: 0 min, 28 sec

   
loading..
समलैंगिकता को अवैध बताने वाली IPC की धारा 377 की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट कल फैसला दे सकती है. पांच जजों की संविधान पीठ यह तय करेगी कि सहमति से दो व्यस्कों द्वारा बनाए गए यौन संबंध अपराध के दायरे में आएंगे या नहीं. संविधान पीठ में मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस रोहिंटन नरीमन, जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदु मल्होत्रा शामिल हैं. शुरुआत में संविधान पीठ ने कहा था कि वो जांच करेंगे कि क्या जीने के मौलिक अधिकार में 'यौन आजादी का अधिकार' शामिल है, विशेष रूप से 9-न्यायाधीश बेंच के फैसले के बाद कि 'निजता का अधिकार' एक मौलिक अधिकार है.
ALSO WATCH
दागियों पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को एडीआर चीफ ने बताया निराशाजनक

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................