भीमा-कोरेगांव मामले की जांच को लेकर विपक्ष के निशाने पर केंद्र सरकार

PUBLISHED ON: January 27, 2020 | Duration: 3 min, 57 sec

  
loading..
भीमा-कोरेगांव केस को आज अचानक केंद्र सरकार ने एनआईए को सौंप दिया. एक दिन पहले ही महाराष्ट्र सरकार ने साल 2018 में हुए भीमा-कोरेगांव हिंसा की समीक्षा का फैसला लिया था. केंद्र के इस फैसले की महाराष्ट्र सरकार ने निंदा की. इस फैसले पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार ने एतराज जताया. वहीं राज्य गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि इस बारे में राज्य सरकार से पूछा तक नहीं गया. उन्होंने ट्वीट किया कि जब राज्य सरकार इस मामले की तह में जा रही थी, तब ये फ़ैसला किया गया. एक दिन पहले महाराष्ट्र के गृह मंत्री और एनसीपी नेता अनिल देशमुख ने इसे लेकर गुरुवार को मीटिंग रखी थी. गृह मंत्री ने इस बारे में कहा था कि वह पुलिस को मिले सबूतों के आधार पर उनके द्वारा इस मामले की जानकारी मिलने के बाद ही इसकी समीक्षा करेंगे और किसी नतीजे तक पहुंचेंगे.
ALSO WATCH
"Unconstitutional," Says Maharashtra As Central Agency NIA Takes Over Koregaon-Bhima Case

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................