कावंड़ में मां-बाप को बिठाकर न्याय के लिए 40 किलोमीटर का सफर

PUBLISHED ON: September 1, 2017 | Duration: 6 min, 44 sec

   
loading..
भारत में न्याया पाना सिर्फ न्याय व्यवस्था में भरोसे की बात नहीं है. इस भरोसे के नाम पर वर्षों से लोग न्याय के इंतज़ार में लोग अदालतों के चक्कर लगा रहे हैं. मुकदमेबाज़ी एक ऐसा खेल है कि कोई भी किसी को फंसा सकता है.
ALSO WATCH
Shravan's friend explains his condition

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................