साहसी पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की कहानी, बेटे की जुबानी

PUBLISHED ON: August 26, 2017 | Duration: 2 min, 45 sec

  
loading..
रामचंद्र छत्रपति वो पत्रकार जो डरा नहीं सच लिखता रहा. उन्होंने गुमनाम साध्वी की वो चिट्ठी छापी थी जिसमें राम रहीम द्वारा शोषण के ख़िलाफ एक गुहार थी. पर इस चिट्ठी के छपने के बाद रामचंद्र छत्रपति की हत्या हो गई, लेकिन उनका परिवार लड़ता रहा.सुरक्षा भी तब मिली जब कल कोर्ट का फैसला आया. रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल ने पूरी कहानी बयां की
ALSO WATCH
प्राइम टाइम: पत्रकारों को अवमानना की सज़ा सुनाने पर सवाल

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................