रवीश कुमार को 'रैमन मैग्सेसे अवॉर्ड': चिट्ठियां छांटने से लेकर पत्रकारिता के शिखर पर पहुंचने तक उनका सफर

PUBLISHED ON: August 2, 2019 | Duration: 17 min, 06 sec

  
loading..
एनडीटीवी के रवीश कुमार को 'रैमॉन मैगसेसे अवॉर्ड' से सम्मानित किया गया है. अमूमन सामाजिक कार्यों के लिए दिए जाने वाला ये पुरस्कार रवीश कुमार की सामाजिक पत्रकारिता को रेखांकित करता है. एनडीटीवी के लिए यह एक गौरव का दिन है. रवीश कुमार ने बहुत लंबा सफर तय किया है. बहुत नीचे से उन्होंने शुरुआत की और यहां तक पहुंचे हैं. वर्ष1996 से रवीश कुमार एनडीटीवी से जुड़े रहे हैं. शुरुआती दिनों में एनडीटीवी में आई चिट्ठियां छांटा करते थे. इसके बाद वो रिपोर्टिंग की ओर मुड़े और उनकी सजग आंख देश और समाज की विडंबनाओं को अचूक ढंग से पहचानती रही. उनका कार्यक्रम 'रवीश की रिपोर्ट' बेहद चर्चित हुआ और हिंदुस्तान के आम लोगों का कार्यक्रम बन गया. बाद में एंकरिंग करते हुए उन्होंने टीवी पत्रकारिता की जैसे एक नई परिभाषा रची. इस देश में जिसे भी लगता है कि उसकी आवाज कोई नहीं सुनता है, उसे रवीश कुमार से उम्मीद होती है.
ALSO WATCH
रवीश कुमार का प्राइम टाइम : पुलिस थाने में महिलाओं की पिटाई क्यों?

Related Videos

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................