प्राइम टाइम इंट्रो : न्यायपालिका की आज़ादी में दखलंदाज़ी हुई?

PUBLISHED ON: July 2, 2014 | Duration: 5 min, 48 sec

   
loading..
कोई सरकार अपनी संस्थाओं के बीच किस तरह का संतुलन बनाती है और उनकी स्वायत्तता को कितनी जगह देती है। मैं सीबीआई की बात नहीं कर रहा हूं। वरिष्ठ वकील गोपाल सुब्रमण्यम जज नहीं बने तो जनता को क्यों तकलीफ होनी चाहिए। देखें प्राइम टाइम इंट्रो...
ALSO WATCH
प्राइम टाइम : न्यायपालिका की स्वतंत्रता को कैसा ख़तरा?

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................