प्राइम टाइम इंट्रो : जुवेनाइल जस्टिस एक्ट में संशोधन

PUBLISHED ON: August 8, 2014 | Duration: 5 min, 36 sec

  
loading..
रोज़मर्रा की आपाधापी से गुज़रते हुए जब आप थकहार कर टीवी के सामने बैठते हैं तो क्या खुद को इस बात के लिए तैयार रखते हैं कि कुछ वक्त निकाल कर सोचा जाना चाहिए कि किसी अपराधी को अपराध की क्रूरता के अनुसार बालिग माना जाए या उसके कच्चे मन की सीमाओं को समझते हुए नाबालिग माना जाए।
ALSO WATCH
दिल्ली मर्सिडीज हिट एंड रन केस : किशोर ड्राइवर पर चलेगा वयस्क की तरह मुकदमा

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................