झुग्गी बचाने से ज्यादा फिक्र बसाने की होती तो मासूम की जान ना जाती

PUBLISHED ON: December 14, 2015 | Duration: 2 min, 51 sec

  
loading..
जो तथ्य सामने आए हैं, उससे ये भी पता चलता है कि सबको पता था कि शकूर बस्ती की झुग्गियां कभी भी उजड़ सकती थीं। लेकिन कोशिश यहां के लोगों को कहीं और बसाने की नहीं हुई, सिर्फ झुग्गियां ही बचाने की होती रही।
ALSO WATCH
रेलवे के सफर को सुरक्षित बना रहीं महिलाएं

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................