नागरिक संशोधन विधेयक संविधान की मूल भावना के खिलाफ: मनीष तिवारी

PUBLISHED ON: December 9, 2019 | Duration: 10 min, 38 sec

  
loading..
लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए कांग्रेस के मनीष तिवारी ने कहा, 'यह विधेयक असंवैधानिक है, संविधान की मूल भावना के खिलाफ है. जिन आदर्शों को लेकर बाबा साहब भीमराव आंबेडकर ने संविधान की रचना की थी, यह उसके भी खिलाफ है.' उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून में आठ बार संशोधन किया गया है लेकिन जितनी उत्तेजना इस बार है, उतनी कभी नहीं थी. इसका कारण यह है कि यह अनुच्छेद 14, 15, 21, 25 और 26 के खिलाफ है. वीडियो सौजन्य LSTV
ALSO WATCH
The Divisive Nature Of The Citizenship Act: Reality Check

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................