'कोई जूता चप्पल नहीं था, मेरे बेटे का शरीर था जो डिस्ट्रॉय किया गया'- नीतीश कटारा की मां

PUBLISHED ON: October 3, 2016 | Duration: 5 min, 35 sec

   
loading..
साल 2002 के नीतीश कटारा हत्याकांड में सुप्रीम कोर्ट ने आज अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि दोषी विकास यादव की सजाएं एक साथ चलेंगी. इस फैसले से अब विकास यादव को 30 के स्थान पर 25 साल की जेल काटनी होगी. इस फैसले पर बात करते हुए नीतीश कटारा की मां ने कहा, 'साक्ष्य कोई जूता चप्पल नहीं था मेरे बेटे का शरीर था जो डिस्ट्रॉय कर दिया गया. लेकिन मैं खुश हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने माना कि यह एक साधारण हत्या नहीं थी, यह एक वेल प्लान्ड क्राइम था.'
ALSO WATCH
अखिलेश यादव का दावा- 'हमने विकास किया है'

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................