मुकाबला : क्या हम हंसना भूल रहे हैं?

PUBLISHED ON: August 23, 2014 | Duration: 37 min, 05 sec

   
loading..
हाल के दिनों हास्य एवं व्यंग्य को लेकर कई तरह की शिकायतें देखने को मिली हैं। कई लोगों का कहना है कि इसमें भाषा का स्तर गिरता जा रहा है और लोग मज़ाक के नाम पर अपमान कर रहे हैं। इस बीच हास्य के मानक तय करने की भी मांग उठ रही है। तो ऐसे में सवाल यह कि क्या इन दिनों व्यंग्य की परिभाषा बदल रही है या फिर हम हंसना भूल रहे हैं? मुकाबला में आज इसी मुद्दे पर हास्य एवं व्यंग्यकारों के जरिये एक खास नजर....
ALSO WATCH
व्यंग्य के रंग में कुमार विश्वास

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................