कैश की किल्लत: POS मशीन से कैश बांटने की व्यवस्था की गई

एसबीआई ने कहा है कि उसकी पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीनों के माध्यम से कैश निकालने पर ग्राहकों से कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा. पीओएस के जरिये प्रतिदिन 1,000 से 2,000 रुपये निकाला जा सकता है.

कैश की किल्लत: POS मशीन से कैश बांटने की व्यवस्था की गई

प्रतीकात्मक चित्र

हाइलाइट्स

  • हर दिन निकाल सकते हैं 1,000 से 2,000 रुपये कैश
  • एसबीआई की कुल 6.08 लाख पीओएस मशीनें हैं देशभर में
  • आरबीआई ने दिया है पीअोएस को लेकर दिशा-निर्देश
नई दिल्ली: देशभर में कैश की किल्लत के बीच एसबीआई ने बड़ा बयान दिया है. बैंक ने कहा है कि उसकी पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीनों के माध्यम से कैश निकालने पर ग्राहकों से कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा. पीओएस के जरिये प्रतिदिन 1,000 से 2,000 रुपये निकाला जा सकता है. एसबीआई ने देशभर में तमाम व्यापारिक संस्थानों को पीओएस मशीनें दी हैं. बैंक ने एक बयान में कहा कि 'एसबीआई की कुल 6.08 लाख पीओएस मशीनें हैं, जिसमें से 4.78 लाख पीओएस मशीनों से एसबीआई के ग्राहकों और उन बैंकों के ग्राहकों को नकदी निकालने की सुविधा दी गई है, जिन्होंने अपने ग्राहकों के लिए यह सुविधा शुरू कर रखी है'. 

यह भी पढ़ें : आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में जारी है कैश की किल्‍लत, यूपी के ग्रामीण इलाकों में सुधरे हालात

गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई)  ने पीओएस मशीनों से कैश निकासी को लेकर दिशा-निर्देश दिया है. इसके मुताबिक टीयर 1 और टीयर 2 शहरों के ग्राहक प्रतिदिन प्रति कार्ड 1,000 रुपये तथा टीयर 3 से लेकर टीयर 6 शहरों में प्रति कार्ड प्रति दिन 2,000 रुपये निकाल सकते हैं.

यह भी पढ़ें : देश में पैदा नकदी संकट की वजह सरकार और रिजर्व बैंक का कुप्रबंधन है : यशवंत सिन्हा

कैश की किल्लत से जूझ रहे हैं लोग 
इन दिनों देश के तमाम इलाकों में लोग कैश की किल्लत से जूझ रहे हैं. कैश की किल्लत के बीच पिछले दिनों वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि 'प्रचलन में जरूरत से ज्यादा नकदी है' और सरकार ने नकदी की कमी के लिए कुछ क्षेत्रों में 'असामान्य मांग' को जिम्मेदार ठहराया था. इसके अलावा केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि उसने 500 रुपये के नोट की छपाई पांच गुना बढ़ाने का फैसला किया है.  (इनपुट IANS से)