विप्रो का शुद्ध लाभ दूसरी तिमाही में 3.4 प्रतिशत घटा, 9,500 करोड़ रुपये की पुनखर्रीद योजना

सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेवा कंपनी विप्रो का एकीकृत शुद्ध लाभ 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही में 3.4 प्रतिशत घटकर 2,465.7 करोड़ रुपये रहा.

विप्रो का शुद्ध लाभ दूसरी तिमाही में 3.4 प्रतिशत घटा, 9,500 करोड़ रुपये की पुनखर्रीद योजना

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेवा कंपनी विप्रो का एकीकृत शुद्ध लाभ 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही में 3.4 प्रतिशत घटकर 2,465.7 करोड़ रुपये रहा. कंपनी ने मंगलवार को शेयर बाजार को दी सूचना में यह भी कहा कि उसके निदेशक मंडल ने 9,500 करोड़ रुपये की शेयर पुनर्खरीद योजना को मंजूरी दे दी है. कंपनी यह पुनर्खरीद 400 रुपये प्रति शेयर के भाव पर करेगी. बेंगलुरू की कंपनी का शुद्ध लाभ इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तमाही में 2,552.7 करोड़ रुपये था.
विप्रो की आय चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में 15,114.5 करोड़ रुपये पर लगभग स्थिर रही.


कंपनी के अनुसार पुनर्खरीद कार्यक्रम शेयरधारकों की मंजूरी पर निर्भर है. शेयरधारकों से मंजूरी डाक मतपत्रों के जरिये ली जाएगी. इसके तहत 400 रुपये प्रति इक्विटी के भाव पर 23.75 करोड़ शेयर की पुनर्खरीद की जाएगी. इस प्रकार, यह कुल 9,500 करोड़ रुपये तक का होगा. यह कंपनी की 30 सितंबर, 2020 की स्थिति के अनुसार चुकता शेयर पूंजी का 4.16 प्रतिशत है. मंगलवार को कंपनी का शेयर बीएसई में 6.4 प्रतिशत बढ़कर 375.5 रुपये पर बंद हुआ. यानी पुनर्खरीद मूल्य 6.4 प्रतिशत अधिक है.


विप्रो ने मौजूदा तिमाही मे आईटी सेवा कारोबार से आय 202.2 से 206.2 करोड़ डॉलर रहने का अनुमान लगाया है. यह तिमाही आधार पर 1.5 से 3.5 प्रतिशत वृद्धि को बताता है. कंपनी की आईटी सेवाओं से आय जुलाई-सितंबर, 2020 तिमाही में इससे पूर्व तिमाही के मुकाबले 3.7 प्रतिशत बढ़कर 199.24 करोड़ डॉलर रही. विप्रो के सीईओ (मुख्य कार्यपालक अधिकारी और प्रबंध निदेशक) थिएरी डेलापोर्टे ने कहा, ‘‘आय, मार्जिन में विस्तार और नकद सृजन के लिहाज से पिछली तिमाही शानदार रही. हमारे पास जो अवसर हैं, उससे मैं काफी उत्साहित हूं.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)