Profit

Tax

  • आईटीआर (ITR) ऑनलाइन भरने का आसान है तरीका

    आईटीआर (ITR) ऑनलाइन भरने का आसान है तरीका

    एक साल में किए जाने वाले सभी महत्वपूर्ण कार्यों में इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग भी शामिल होता है. इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) फाइल करना कई बार काफी जटिल लगता है.
  • अब है आईटीआर (ITR) भरने का वक्त, कर लें तैयार ये 6 कागजात

    अब है आईटीआर (ITR) भरने का वक्त, कर लें तैयार ये 6 कागजात

    वित्त वर्ष 2017-18 या कहें आकलन वर्ष 2018-19 (एसेसमेंट ईयर Assesment Year 2018-19) के लिए आयकर (इनकम टैक्स) रिटर्न भरने का समय है. इसके लिए अब करीब डेढ़ महीना ही बचा है. 31 जुलाई  से पहले आयकरदाताओं को आईटीआर फाइल करना होगा.
  • जीएसटी से कारोबार जगत का हिसाब-किताब बेहतर हुआ, कर आधार बढ़ा : वित्त मंत्रालय

    जीएसटी से कारोबार जगत का हिसाब-किताब बेहतर हुआ, कर आधार बढ़ा : वित्त मंत्रालय

    वित्त मंत्रालय ने कहा कि देश में माल एवं सेवाकर (जीएसटी) व्यवस्था लागू होने के बाद समूची अर्थव्यवस्था औपचारिक स्वरूप में आ रही है और व्यावसायियों के लिये अब कर दायरे से बाहर रहना मुश्किल हो रहा है. माल एवं सेवाकर को देश में एक जुलाई 2017 से लागू किया गया. इसमें उत्पाद शुल्क और बिक्री कर जैसे कई अप्रत्यक्ष करों को समाहित किया गया है. 
  • अगर आपने लिया है ये लोन, तब इस नियम में पूरे ब्याज पर मिलती है कर छूट

    अगर आपने लिया है ये लोन, तब इस नियम में पूरे ब्याज पर मिलती है कर छूट

    आयकर भरने का समय चल रहा है. 31 जुलाई तक अंतिम तारीख है. कुछ लोग खुद ही ऑनलाइन आईटीआर फाइल करते हैं तो कुछ लोग किसी की मदद से. लेकिन जरूरी होता है, आईटीआर के नियमों की कुछ जानकारी. यदि खुद ही आईटीआर रिटर्न फाइल कर रहे हैं, तब यह आवश्यक हो जाता है कि टैक्स पर मिलने वाले छूट से जुड़े नियमों का जानकारी हो. ऐसा ही एक नियम है टैक्स में छूट देता है अगर किसी ने उच्च शिक्षा के लिए लोन लिया है. 
  • नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) के बारे में पूरी जानकारी यहां पढ़ें

    नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) के बारे में पूरी जानकारी यहां पढ़ें

    हर नौकरीपेशा की नौकरी के कुछ साल में यह चिंता हो जाती है कि आज तो ठीक है, लेकिन जब नौकरी नहीं होगी तब आय कैसे होगी. यानी रिटायरमेंट के बाद की आय की चिंता. इसका समाधान एनपीएस (नेशनल पेंशन स्कीम National Pension Scheme) के जरिए किया जा सकता है. एनपीएस (NPS) का मतलब है नेशनल पेंशन स्कीम (NPS). एनपीएस एक पेंशन योजना है. इस योजना में अपने रिटायरमेंट के बाद के जीवन के लिए निवेश किया जाता है. व्यक्ति के निवेश और उस पर मिलने वाले रिटर्न से एनपीएस खाता बढ़ता है.
  • PAN को आधार से जोड़ने की समयसीमा फिर बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख

    PAN को आधार से जोड़ने की समयसीमा फिर बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख

    केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने पैन-आधार को जोड़ने की समय सीमा को अगले वर्ष 31 मार्च तक के लिए बढ़ा दिया है. यह पांचवीं बार है जब सरकार ने लोगों के पैन को उनके आधार से जोड़ने की समय सीमा को बढ़ाया है. आयकर विभाग की नीति निर्धारण इकाई ने आयकर कानून की धारा 119 के तहत देर रात यह आदेश जारी किया.
  • आधार पर आधारित पैन जारी करने की व्यवस्था शुरू, क्या आपने उठाया लाभ

    आधार पर आधारित पैन जारी करने की व्यवस्था शुरू, क्या आपने उठाया लाभ

    आयकर विभाग ने ‘तुरंत’ पैन संख्या जारी करने की एक सेवा शुरू की है. इसके तहत पहली बार पैन चाहने वालों को उनके आधार कार्ड के आधार पर तुरंत ई-पैन जारी कर दिया जाएगा. आयकर विभाग ने हाल ही में एक परिपत्र में यह जानकारी दी है. इसके अनुसार,‘यह सुविधा नि:शुल्क है वैध आधार धारकों के लिए पहले आओ पहले पाओ के आधार पर सीमित समय के लिए उपलब्ध है.’
  • कम पैसे निवेश कर करोड़पति बनने का है ये रास्ता, टॉप 5 निवेश विकल्प

    कम पैसे निवेश कर करोड़पति बनने का है ये रास्ता, टॉप 5 निवेश विकल्प

    सुनिश्चित निवेश कर करोड़पति बनने का सपना सभी का होता है. इतना ही नहीं लोग, खासतौर पर नौकरीपेशा, यह चाहते हैं कि रिटायरमेंट तक करोड़पति बन जाऊं. असल ज़िन्दगी में ऐसा कोई तरीका नहीं होता, जिसमें कुछ हज़ार रुपये का निवेश हमें करोड़ों रुपये का रिटर्न दे सके. अगर कुछ ऐसा होगा भी, तो हाथ आने वाले करोड़ों रुपये पर टैक्स देना पड़ेगा, और रकम फिर कम हो जाएगी. आप कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये की कमाई कर सकते हैं, लेकिन अब यह टैक्स फ्री नहीं रही है. इस बार बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस पर टैक्स लगा दिया है. 
  • क्या जीएसटी 'गलत शलत टैक्स' है? देखें ऐसा क्यों है...

    क्या जीएसटी 'गलत शलत टैक्स' है? देखें ऐसा क्यों है...

    जीएसटी को लागू हुए एक साल पूरा हो गया है. क्या जीएसटी 'गलत शलत टैक्स' है. क्या यह जिस तरह से लागू किया गया है, वह गलत है. क्या जीएसटी भारत जैसे देश के लिए गलत है. एनडीटीवी के पत्रकार ऑनिंद्यो चक्रवर्ती ने सिंपल समाचार में इसी मुद्दे पर बात की है. जीएसटी क्या है. देश में पहले कई टैक्स थे जिन्हें खत्म किया गया है. और अब एक टैक्स लगाया गया है. अब इसमें 5-6 स्लैब हैं. 
  • एचआरए (HRA) छूट पाने के लिए मां-बाप को देते हैं किराया, तो हो जाइए सावधान क्योंकि...

    एचआरए (HRA) छूट पाने के लिए मां-बाप को देते हैं किराया, तो हो जाइए सावधान क्योंकि...

    आईटीआर (ITR) फाइल करने का समय है. ऐसे में लोगों को अब आयकर रिटर्न फाइल करने वालों के दरवाजे खटखटाना पर पड़ रहा है. ऐसे में कुछ आयकर कानून लोगों को गाढ़ी कमाई बचाने में मदद करते हैं, जिनकी जानकारी और तरीका लोगों को पता नहीं होता. इसमें से एक है HRA.
  • ITR 2018-19 : HRA पर मिलने वाली छूट को ऐसे करें कैल्कुलेट

    ITR 2018-19 : HRA पर मिलने वाली छूट को ऐसे करें कैल्कुलेट

    ज़्यादातर नौकरीपेशा लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) भरना, या वित्तवर्ष की शुरुआत में उससे जुड़ी बचत घोषणाएं करना झंझट का काम लगता है, क्योंकि बहुत-से लोगों को इसकी बारीक समझ नहीं होती. वैसे, सही बचत घोषणाएं करने से कोई भी शख्स इनकम टैक्स बचा भी सकता है, और सालभर के लिए अपने खर्चों की प्लानिंग भी बेहतर तरीके से कर सकता है.
  • आम करदाताओं के लिए बड़ी राहत की खबर, CBDT ने अधिकारियों को दिया ये आदेश

    आम करदाताओं के लिए बड़ी राहत की खबर, CBDT ने अधिकारियों को दिया ये आदेश

    केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर विभाग को सख्त निर्देश दिया है कि वह सामान्य करदाताओं के खिलाफ होने वाले कठोर आकलन पर रोक लगाए. साथ ही इस तरह के अतार्किक आदेश देने वाले या इन निर्देशों का उल्लंघन करने वाले अधिकारियों का तबादला करे या उन पर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिये. 
  • सैलरी लेने वालों के लिए खबर, गलत रिटर्न भरा तो इनकम टैक्स विभाग उठाएगा ये बड़ा कदम

    सैलरी लेने वालों के लिए खबर, गलत रिटर्न भरा तो इनकम टैक्स विभाग उठाएगा ये बड़ा कदम

    इनकम टैक्स भरने का समय है. समय रहते आयकर रिटर्न (ITR) दाखिल करने वालों को फायदा होगा. वहीं, कई बार देखा गया है कि कुछ लोग आयकर रिटर्न फाइल करते हुए गलत जानकारी देते हैं. अकसर लोग टैक्स बचाने के चक्कर में ऐसा करते हैं. ऐसे रिटर्न भरने वालों को आयकर विभाग ने हाल ही में चेताया है. 
  • इनकम टैक्स से जुड़े 10 नियम-कानून, जो अप्रैल, 2018 से बदल गए हैं

    इनकम टैक्स से जुड़े 10 नियम-कानून, जो अप्रैल, 2018 से बदल गए हैं

    आयकर रिटर्न फाइल करने का वक्त चल रहा है. ऐसे में सभी लोगों को यह चिंता सताती है कि आयकर नियमों में सरकार ने क्या बदलाव किया है. उन्हें इन बदलावों के हिसाब से रिटर्न फाइल करने की चिंता रहती है. ऐसे में यह चिंता उन लोगों को ज्यादा हो जाती है जो बिना किसी की मदद के खुद  ही आयकर रिटर्न फाइल करते हैं. 
  • ITR 2018: जल्द फाइल आयकर रिटर्न, नहीं तो 10000 रुपये तक का है जुर्माना

    ITR 2018: जल्द फाइल आयकर रिटर्न, नहीं तो 10000 रुपये तक का है जुर्माना

    इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2018 है. अभी भी करोड़ों करदाताओं ने अपना रिटर्न फाइल नहीं किया है. अमूमन देखा गया है कि करदाता महीने के आखिरी सप्ताह में ही रिटर्न दाखिल करते हैं. इतना ही कई लोग को अंतिम तारीख का इंतजार करते रहते हैं और अंतिम तारीख पर रिटर्न दाखिल करते हैं

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com