Profit

शेयर बाजार में तेजी और सेंसेक्स में ऐतिहासिक उछाल के 7 कारण

यह अलग बात है कि निफ्टी अपने 11171 के आंकड़े को छू नहीं पाया और 11037 तक पहुंचा. लेकिन आज के बाजार में आई तेजी के कारण पर लोगों की नजर रही.

 Share
EMAIL
PRINT
COMMENTS
शेयर बाजार में तेजी और सेंसेक्स में ऐतिहासिक उछाल के 7 कारण

शेयर बाजार में तेजी.

नई दिल्ली:  देश के शेयर बाजार में  गुरुवार को तेजी का दौर आया. सेंसेक्स ने छलांग लगाई और रिकॉर्ड आंकड़े को छुआ. सेंसेक्स ने करीब 270 अंकों की तेजी हासिल की और 36545 तक पहुंच गया. 30 शेयरों वाले संवेदी सूचकांक के 26 शेयरों में तेजी रही. इस बीच निफ्टी ने भी आज तेजी देखी और एक बार फिर 11000 के आंकड़े को पार किया. यह अलग बात है कि निफ्टी अपने 11171 के आंकड़े को छू नहीं पाया और 11037 तक पहुंचा. लेकिन आज के बाजार में आई तेजी के कारण पर लोगों की नजर रही.
शेयर बाजार में तेजी के 7 कारण 
  1. आज बाजार में शुरुआती कारोबार में तेल कंपनियों के शेयरों में खासी तेजी देखी गई. शेयर बाजार में तेल कंपनियों के शेयर 5 प्रतिशत तक ऊपर चले गए. इसके पीछे सबसे महत्वपूर्ण कारण यह रहा हैकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम कुछ कम हुए. 
  2. जहां अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम कुछ कम हुए वहीं ईरान के एक बयान ने आज तेल कंपनियों के शेयरों में उछाल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. ईरान ने कहा है कि वह भारत को तेल की सप्लाइ सही ढंग से बनाए रखने के लिए हर संभव कदम उठाएगा. उसने जोर देकर कहा कि वह भारत का भरोसेमंद ऊर्जा साझेदार रहा है. 
  3. बता दें कि ईरान का यह यह बयान कल ईरान के दूतावास के जवाब में ही आया.  यह स्पष्टीकरण ऐसे समय आया जब उसके उप राजदूत मसूद रिजवानियन रहागी ने एक दिन पहले कहा था कि अमेरिकी प्रतिबंध के बाद यदि भारत ने ईरान से तेल आयात में कटौती की तो ईरान भारत को मिलने वाली विशिष्ट सहूलियतें बंद कर देगा.
  4. ईरान के कल के बयान के बाद बुधवार को तेल कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखी गई थी. लेकिन आज के बयान के बाद तेल कंपनियों के शेयरों ने न केवल बाजार में रिकवरी दर्ज की बल्कि मांग बढ़ने के साथ उछाल देखा. इसका असर पूरे बाजार पर पड़ा. इनके चलते आज बैंकिंग के शेयरों में भी तेजी आई. 
  5. उधर, अंतरराष्ट्रीय बाजार ने भी आज रिकवरी की और नुकसान से उबर कर अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी उछाल रहा. जिसका असर भारतीय बाजार पर देखने को मिला. बुधवार को चीन और अमेरिका में चल रही व्यापारिक तनातनी का असर था जो बाद में बाजार में कुछ संतुलित हुआ और बाजार में कुछ दिनों बाद रिकवरी की और इसका असर भारतीय बाजार पर दिखा है. 
  6. शेयर बाजार में इस तेजी के पीछे भारतीय निवेशकों के साथ ही एफआईआई के भी भारतीय बाजार में रुचि दिखाने का असर को कारण माना जा रहा है.
  7. ब्रोकरों के अनुसार घरेलू संस्थागत निवेशकों की भारी लिवाली और रुपये में सुधार से शेयर बाजारों में धारणा मजबूत रही. इसके अलावा औद्योगिक उत्पादन सूचकांक और मुद्रास्फीति के आंकड़े जारी होने से पहले निवेशकों का रुख सकारात्मक बना रहा.




बिजनेस जगत में होने वाली हर हलचल के अपडेट पाने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें.

NDTV Beeps - your daily newsletter

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

Top