Profit
होम | विषय | Oil Prices

Oil Prices


'Oil Prices' - 25 News Result(s)

  • विदेशों में तेजी के रुख से बीते हफ्ते ज्यादातर तेल-तिलहन कीमतों में आया सुधार

    विदेशों में तेजी के रुख से बीते हफ्ते ज्यादातर तेल-तिलहन कीमतों में आया सुधार

    विदेशी बाजारों में तेजी के रुख के बीच बीते सप्ताह सरसों, सोयाबीन, सीपीओ एक्स-कांडला और पामोलीन सहित विभिन्न खाद्य तेलों में सुधार का रुख रहा.

  • त्यौहारी मांग के कारण अधिकतर तेल तिलहन की कीमतों में सुधार

    त्यौहारी मांग के कारण अधिकतर तेल तिलहन की कीमतों में सुधार

    अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेजी के रुख और त्यौहारी मांग के कारण स्थानीय तेल तिलहन बाजार में बीते सप्ताह सरसों सहित ज्यादातर तेल तिलहनों में मामूली सुधार देखने को मिला. दूसरी ओर सर्दी आने की वजह से मांग कम होने से पामोलीन तेल कीमत पूर्वस्तर पर बनी रही जबकि पर्याप्त स्टॉक तथा सस्ते आयात के कारण मूंगफली तेल, तिलहन कीमत में गिरावट दर्ज हुई. बाजार सूत्रों ने कहा कि अगले सप्ताह के बाद से सरसों की बिजाई शुरु होनी है. इससे पहले नाफेड की सरसों बिकवाली से विशेषकर सरसों किसान बेहाल हैं जिन्हें नाफेड द्वारा एमएसपी से कम दर पर सरसों के बेचने से अपनी लागत को निकालना भी मुश्किल हो रहा है.

  • विदेशों में सामान्य कारोबार के बीच बीते सप्ताह तेल तिलहन की कीमतों में मामूली घट बढ़

    विदेशों में सामान्य कारोबार के बीच बीते सप्ताह तेल तिलहन की कीमतों में मामूली घट बढ़

    बाजार सूत्रों ने कहा कि नाफेड की सरसों बिकवाली से अधिकांश खाद्य तेलों के भाव भी दबाव में हैं. हालांकि सरसों के भाव में पिछले सप्ताहांत के मुकाबले सुधार है मगर अब भी ये न्यूनतम समर्थन मूल्य से लगभग 350 रुपये कम ही हैं. अगले महीने से सरसों की बिजाई होने वाली है और वायदा कारोबार में सरसों का भाव टूटने से किसान की बिजाई का रकबा और उत्पादन प्रभावित होने की आशंका है.

  • नाफेड की बिकवाली से बीते सप्ताह सरसों, तेल तिलहन कीमतों में गिरावट

    नाफेड की बिकवाली से बीते सप्ताह सरसों, तेल तिलहन कीमतों में गिरावट

    उन्होंने कहा कि सहकारी संस्था नाफेड ने किसानों से लगभग 10 प्रतिशत (11.5 लाख टन) सरसों की खरीद की थी और वह अब इस सरसों को खुले बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम दर (लगभग 3,851 से 3,890 रुपये क्विन्टल) पर बेचा जा रहा है. इससे किसानों पर भी अपना स्टॉक सस्ते में बेचने का दबाव बढ़ रहा है. ये किसान पहले ही पामोलीन के सस्ते आयात से परेशान हैं और अब सटोरियों की खींचतान की वजह से वे समर्थन मूल्य से कम पर फसल बेचने को मजबूर हो रहे हैं.

  • शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 83 अंक चढ़कर 36,563 पर हुआ बंद

    शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 83 अंक चढ़कर 36,563 पर हुआ बंद

    देश के शेयर बाजारों में बुधवार को तेजी रही. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 82.79 अंकों की तेजी के साथ 36,563.88 पर और निफ्टी 23.05 अंकों की तेजी के साथ 10,840.65 पर बंद हुआ.

  • बीते हफ्ते अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में मामूली गिरावट

    बीते हफ्ते अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में मामूली गिरावट

    अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेजी के बावजूद देश में सस्ते आयात के कारण बीते सप्ताह अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में गिरावट देखी गई. बाजार सूत्रों ने कहा कि बेहद साधारण मांग की वजह से केवल सरसों दाना और सीपीओ एक्स-कांडला के भाव में तेजी के अलावा अन्य तेल तिलहनों के दाम घाटे के साथ बंद हुए. उन्होंने कहा कि देश में त्योहारी मांग आने वाले दिनों में बढ़ने की संभावना है.

  • कच्चे तेल में तेजी से रुपये को झटका, शुरुआती कारोबार में 41 पैसे फिसला

    कच्चे तेल में तेजी से रुपये को झटका, शुरुआती कारोबार में 41 पैसे फिसला

    बुधवार को यह 68.79 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. कारोबारियों ने कहा कि अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने तथा घरेलू शेयर बाजारों के सतर्कता में खुलने से भी रुपये पर दबाव रहा.

  • पेट्रोल, डीजल के दाम में गिरावट का सिलसिला थमा, कच्चे तेल में भी नरमी

    पेट्रोल, डीजल के दाम में गिरावट का सिलसिला थमा, कच्चे तेल में भी नरमी

    पेट्रोल और डीजल के दाम में पिछले छह दिन से जारी गिरावट का सिलिसिला बुधवार को थम गया. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत देश के विभिन्न महानगरों में तेल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ. उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में भी नरमी दर्ज की गई.

  • तेल का दाम बढ़ने से 2018-19 में दोगुना हो सकता है आयात बिल

    तेल का दाम बढ़ने से 2018-19 में दोगुना हो सकता है आयात बिल

    अनुमान है कि वित्त वर्ष 2019 में आयात बिल 20 फीसदी बढ़कर 130 अरब डॉलर हो सकता है, जोकि सरकारी एजेंसियों के पूर्वानुमान का दोगुना होगा. हालिया आकलन में पेट्रोलियम मंत्रालय के पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसि सेल (पीपीएसी) का अनुमान है कि आयात बिल 2017-18 के 88 अरब डॉलर से 27 फीसदी बढ़कर 2018-19 में 112 अरब डॉलर हो जाएगा. लेकिन यह अनुमान भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 57.77 डॉलर प्रति बैरल और डॉलर का विनिमय दर 70.73 रुपये प्रति डॉलर पर आधारित है. अब भारतीय बास्केट में कच्चे तेल का दाम 65 डॉलर प्रति बैरल और डॉलर का विनिमय दर 71 रुपये प्रति डॉलर हो गया है.

  • कमजोर वैश्विक रुख से कच्चा तेल वायदा भाव 0.88% फिसला

    कमजोर वैश्विक रुख से कच्चा तेल वायदा भाव 0.88% फिसला

    इसमें 7,951 लॉट का कारोबार हुआ. बाजार जानकारों ने कहा कि एशियाई बाजारों में कमजोर रुख के साथ कारोबारियों के सौदे कम करने से वायदा कारोबार में कच्चे तेल में गिरावट रही. इस बीच, वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट कच्चा तेल 0.63 प्रतिशत गिरकर 53.70 डॉलर पर जबकि ब्रेंट कच्चा तेल 0.80 प्रतिशत गिरकर 62.24 डॉलर प्रति बैरल पर रहा.

  • डीजल के दाम लगातार तीसरे दिन घटे, पेट्रोल स्थिर

    डीजल के दाम लगातार तीसरे दिन घटे, पेट्रोल स्थिर

    डीजल के दाम में रविवार को लगातार तीसरे दिन गिरावट दर्ज की गई. लेकिन तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल के भाव में कोई बदलाव नहीं किया. तेल विपणन कंपनियों ने दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में डीजल के दाम में 10 पैसे प्रति लीटर की कटौती की है.

  • अप्रैल के बाद कच्चा तेल पहली बार 70 डॉलर से नीचे

    अप्रैल के बाद कच्चा तेल पहली बार 70 डॉलर से नीचे

    यह अप्रैल 2018 के बाद पहली बार 70 डॉलर प्रति बैरल के स्तर से नीचे आया है. लंदन में सुबह के सौदों में ब्रेंट क्रूड (उत्तरी सागर) जनवरी डिलीवरी 96 सेंट गिरकर 69.69 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. 

  • तेल कंपनियों को पेट्रोल, डीजल में और कटौती वहन करने के लिए नहीं कहेगी सरकार

    तेल कंपनियों को पेट्रोल, डीजल में और कटौती वहन करने के लिए नहीं कहेगी सरकार

    वित्त मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने ईंधन पर सब्सिडी व्यवस्था फिर से लौटने की चिंता को खारिज किया है. उसने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों से केवल एक बार के लिए पेट्रोल, डीजल पर एक रुपये लीटर कटौती वहन करने को कहा गया है, आगे और कटौती के लिए कहने का कोई इरादा नहीं है.

  • मुंबई में डीजल पहली बार 80 के पार, नवंबर 2014 के बाद कच्चे तेल की कीमत सबसे ज्यादा

    मुंबई में डीजल पहली बार 80 के पार, नवंबर 2014 के बाद कच्चे तेल की कीमत सबसे ज्यादा

    पेट्रोल-डीजल की कीमतें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. आज यानी बुधवार को एक बार फिर से तेल के दाम बढ़े. दिल्ली में जहां पेट्रोल 15 पैसे और डीजल 22 पैसे महंगा हुआ. दिल्ली में पेट्रोल 84 रुपये और डीज़ल 75.45 रुपये प्रति लीटर है. वहीं मुंबई में डीजल पहली बार की 21 पैसे की बढ़ोतरी के साथ 80 पार पहुंच गया. वहीं पेट्रोल 91.34 रुपये प्रति लीटर बिक रहा. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में आई तेजी की वजह से पेट्रोल और डीजल के दाम में इजाफा हो रहा है. 

  • दिल्ली, यूपी समेत छह राज्यों में अब पेट्रोल-डीजल और शराब पर लगेगा एक समान टैक्स

    दिल्ली, यूपी समेत छह राज्यों में अब पेट्रोल-डीजल और शराब पर लगेगा एक समान टैक्स

    पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दाम के बीच पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और संघ शासित चंडीगढ़ ने पेट्रोलियम उत्पादों पर एक समान कर लगाने पर मंगलवार को सहमति जताई है. एक आधिकारिक बयान के अनुसार, इनके अलावा ये राज्य शराब, वाहनों के पंजीयन तथा परिवहन परमिट के मामले में भी एक समान दर रखने पर सहमत हुए हैं.

'Oil Prices' - 25 News Result(s)

  • विदेशों में तेजी के रुख से बीते हफ्ते ज्यादातर तेल-तिलहन कीमतों में आया सुधार

    विदेशों में तेजी के रुख से बीते हफ्ते ज्यादातर तेल-तिलहन कीमतों में आया सुधार

    विदेशी बाजारों में तेजी के रुख के बीच बीते सप्ताह सरसों, सोयाबीन, सीपीओ एक्स-कांडला और पामोलीन सहित विभिन्न खाद्य तेलों में सुधार का रुख रहा.

  • त्यौहारी मांग के कारण अधिकतर तेल तिलहन की कीमतों में सुधार

    त्यौहारी मांग के कारण अधिकतर तेल तिलहन की कीमतों में सुधार

    अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेजी के रुख और त्यौहारी मांग के कारण स्थानीय तेल तिलहन बाजार में बीते सप्ताह सरसों सहित ज्यादातर तेल तिलहनों में मामूली सुधार देखने को मिला. दूसरी ओर सर्दी आने की वजह से मांग कम होने से पामोलीन तेल कीमत पूर्वस्तर पर बनी रही जबकि पर्याप्त स्टॉक तथा सस्ते आयात के कारण मूंगफली तेल, तिलहन कीमत में गिरावट दर्ज हुई. बाजार सूत्रों ने कहा कि अगले सप्ताह के बाद से सरसों की बिजाई शुरु होनी है. इससे पहले नाफेड की सरसों बिकवाली से विशेषकर सरसों किसान बेहाल हैं जिन्हें नाफेड द्वारा एमएसपी से कम दर पर सरसों के बेचने से अपनी लागत को निकालना भी मुश्किल हो रहा है.

  • विदेशों में सामान्य कारोबार के बीच बीते सप्ताह तेल तिलहन की कीमतों में मामूली घट बढ़

    विदेशों में सामान्य कारोबार के बीच बीते सप्ताह तेल तिलहन की कीमतों में मामूली घट बढ़

    बाजार सूत्रों ने कहा कि नाफेड की सरसों बिकवाली से अधिकांश खाद्य तेलों के भाव भी दबाव में हैं. हालांकि सरसों के भाव में पिछले सप्ताहांत के मुकाबले सुधार है मगर अब भी ये न्यूनतम समर्थन मूल्य से लगभग 350 रुपये कम ही हैं. अगले महीने से सरसों की बिजाई होने वाली है और वायदा कारोबार में सरसों का भाव टूटने से किसान की बिजाई का रकबा और उत्पादन प्रभावित होने की आशंका है.

  • नाफेड की बिकवाली से बीते सप्ताह सरसों, तेल तिलहन कीमतों में गिरावट

    नाफेड की बिकवाली से बीते सप्ताह सरसों, तेल तिलहन कीमतों में गिरावट

    उन्होंने कहा कि सहकारी संस्था नाफेड ने किसानों से लगभग 10 प्रतिशत (11.5 लाख टन) सरसों की खरीद की थी और वह अब इस सरसों को खुले बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम दर (लगभग 3,851 से 3,890 रुपये क्विन्टल) पर बेचा जा रहा है. इससे किसानों पर भी अपना स्टॉक सस्ते में बेचने का दबाव बढ़ रहा है. ये किसान पहले ही पामोलीन के सस्ते आयात से परेशान हैं और अब सटोरियों की खींचतान की वजह से वे समर्थन मूल्य से कम पर फसल बेचने को मजबूर हो रहे हैं.

  • शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 83 अंक चढ़कर 36,563 पर हुआ बंद

    शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 83 अंक चढ़कर 36,563 पर हुआ बंद

    देश के शेयर बाजारों में बुधवार को तेजी रही. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 82.79 अंकों की तेजी के साथ 36,563.88 पर और निफ्टी 23.05 अंकों की तेजी के साथ 10,840.65 पर बंद हुआ.

  • बीते हफ्ते अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में मामूली गिरावट

    बीते हफ्ते अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में मामूली गिरावट

    अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेजी के बावजूद देश में सस्ते आयात के कारण बीते सप्ताह अधिकांश तेल तिलहन कीमतों में गिरावट देखी गई. बाजार सूत्रों ने कहा कि बेहद साधारण मांग की वजह से केवल सरसों दाना और सीपीओ एक्स-कांडला के भाव में तेजी के अलावा अन्य तेल तिलहनों के दाम घाटे के साथ बंद हुए. उन्होंने कहा कि देश में त्योहारी मांग आने वाले दिनों में बढ़ने की संभावना है.

  • कच्चे तेल में तेजी से रुपये को झटका, शुरुआती कारोबार में 41 पैसे फिसला

    कच्चे तेल में तेजी से रुपये को झटका, शुरुआती कारोबार में 41 पैसे फिसला

    बुधवार को यह 68.79 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. कारोबारियों ने कहा कि अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने तथा घरेलू शेयर बाजारों के सतर्कता में खुलने से भी रुपये पर दबाव रहा.

  • पेट्रोल, डीजल के दाम में गिरावट का सिलसिला थमा, कच्चे तेल में भी नरमी

    पेट्रोल, डीजल के दाम में गिरावट का सिलसिला थमा, कच्चे तेल में भी नरमी

    पेट्रोल और डीजल के दाम में पिछले छह दिन से जारी गिरावट का सिलिसिला बुधवार को थम गया. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत देश के विभिन्न महानगरों में तेल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ. उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में भी नरमी दर्ज की गई.

  • तेल का दाम बढ़ने से 2018-19 में दोगुना हो सकता है आयात बिल

    तेल का दाम बढ़ने से 2018-19 में दोगुना हो सकता है आयात बिल

    अनुमान है कि वित्त वर्ष 2019 में आयात बिल 20 फीसदी बढ़कर 130 अरब डॉलर हो सकता है, जोकि सरकारी एजेंसियों के पूर्वानुमान का दोगुना होगा. हालिया आकलन में पेट्रोलियम मंत्रालय के पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसि सेल (पीपीएसी) का अनुमान है कि आयात बिल 2017-18 के 88 अरब डॉलर से 27 फीसदी बढ़कर 2018-19 में 112 अरब डॉलर हो जाएगा. लेकिन यह अनुमान भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 57.77 डॉलर प्रति बैरल और डॉलर का विनिमय दर 70.73 रुपये प्रति डॉलर पर आधारित है. अब भारतीय बास्केट में कच्चे तेल का दाम 65 डॉलर प्रति बैरल और डॉलर का विनिमय दर 71 रुपये प्रति डॉलर हो गया है.

  • कमजोर वैश्विक रुख से कच्चा तेल वायदा भाव 0.88% फिसला

    कमजोर वैश्विक रुख से कच्चा तेल वायदा भाव 0.88% फिसला

    इसमें 7,951 लॉट का कारोबार हुआ. बाजार जानकारों ने कहा कि एशियाई बाजारों में कमजोर रुख के साथ कारोबारियों के सौदे कम करने से वायदा कारोबार में कच्चे तेल में गिरावट रही. इस बीच, वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट कच्चा तेल 0.63 प्रतिशत गिरकर 53.70 डॉलर पर जबकि ब्रेंट कच्चा तेल 0.80 प्रतिशत गिरकर 62.24 डॉलर प्रति बैरल पर रहा.

  • डीजल के दाम लगातार तीसरे दिन घटे, पेट्रोल स्थिर

    डीजल के दाम लगातार तीसरे दिन घटे, पेट्रोल स्थिर

    डीजल के दाम में रविवार को लगातार तीसरे दिन गिरावट दर्ज की गई. लेकिन तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल के भाव में कोई बदलाव नहीं किया. तेल विपणन कंपनियों ने दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में डीजल के दाम में 10 पैसे प्रति लीटर की कटौती की है.

  • अप्रैल के बाद कच्चा तेल पहली बार 70 डॉलर से नीचे

    अप्रैल के बाद कच्चा तेल पहली बार 70 डॉलर से नीचे

    यह अप्रैल 2018 के बाद पहली बार 70 डॉलर प्रति बैरल के स्तर से नीचे आया है. लंदन में सुबह के सौदों में ब्रेंट क्रूड (उत्तरी सागर) जनवरी डिलीवरी 96 सेंट गिरकर 69.69 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. 

  • तेल कंपनियों को पेट्रोल, डीजल में और कटौती वहन करने के लिए नहीं कहेगी सरकार

    तेल कंपनियों को पेट्रोल, डीजल में और कटौती वहन करने के लिए नहीं कहेगी सरकार

    वित्त मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने ईंधन पर सब्सिडी व्यवस्था फिर से लौटने की चिंता को खारिज किया है. उसने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों से केवल एक बार के लिए पेट्रोल, डीजल पर एक रुपये लीटर कटौती वहन करने को कहा गया है, आगे और कटौती के लिए कहने का कोई इरादा नहीं है.

  • मुंबई में डीजल पहली बार 80 के पार, नवंबर 2014 के बाद कच्चे तेल की कीमत सबसे ज्यादा

    मुंबई में डीजल पहली बार 80 के पार, नवंबर 2014 के बाद कच्चे तेल की कीमत सबसे ज्यादा

    पेट्रोल-डीजल की कीमतें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. आज यानी बुधवार को एक बार फिर से तेल के दाम बढ़े. दिल्ली में जहां पेट्रोल 15 पैसे और डीजल 22 पैसे महंगा हुआ. दिल्ली में पेट्रोल 84 रुपये और डीज़ल 75.45 रुपये प्रति लीटर है. वहीं मुंबई में डीजल पहली बार की 21 पैसे की बढ़ोतरी के साथ 80 पार पहुंच गया. वहीं पेट्रोल 91.34 रुपये प्रति लीटर बिक रहा. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में आई तेजी की वजह से पेट्रोल और डीजल के दाम में इजाफा हो रहा है. 

  • दिल्ली, यूपी समेत छह राज्यों में अब पेट्रोल-डीजल और शराब पर लगेगा एक समान टैक्स

    दिल्ली, यूपी समेत छह राज्यों में अब पेट्रोल-डीजल और शराब पर लगेगा एक समान टैक्स

    पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दाम के बीच पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और संघ शासित चंडीगढ़ ने पेट्रोलियम उत्पादों पर एक समान कर लगाने पर मंगलवार को सहमति जताई है. एक आधिकारिक बयान के अनुसार, इनके अलावा ये राज्य शराब, वाहनों के पंजीयन तथा परिवहन परमिट के मामले में भी एक समान दर रखने पर सहमत हुए हैं.

Your search did not match any documents
A few suggestions
  • Make sure all words are spelled correctly
  • Try different keywords
  • Try more general keywords
Check the NDTV Archives:https://archives.ndtv.com

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................