SBI और एक्सिस बैंक के अधिकारियों ने माना "येस बैंक के अधिग्रहण के लिए कोटक महिंद्रा बैंक सबसे उपयुक्त"

देश के दो शीर्ष बैंक SBI और एक्सिस बैंक के अधिकारियों का मानना है कि पूंजी संकट से जूझ रहे येस बैंक का अधिग्रहण करने के लिए कोटक महिंद्रा बैंक सबसे उपयुक्त है.

SBI और एक्सिस बैंक के अधिकारियों ने माना

अधिकारियों ने कहा कोटक महिंद्रा बैंक येस बैंक का अधिग्रहण कर सकता है

मुंबई:

देश के दो शीर्ष बैंक SBI और एक्सिस बैंक के अधिकारियों का मानना है कि पूंजी संकट से जूझ रहे येस बैंक का अधिग्रहण करने के लिए कोटक महिंद्रा बैंक सबसे उपयुक्त है. येस बैंक के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी रवनीत गिल के नेतृत्व में इस साल की शुरुआत में बैंक की गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों का पता लगाया गया था, जिसके बाद से बैंक के पूंजी बफर में कमी आई है. येस बैंक की पूंजी जुटाने की योजना भी अनिश्चितताओं के दौर से गुजर रही है. बाजार में इस प्रकार की चर्चा है कि येस बैंक का किसी अन्य बैंक द्वारा अधिग्रहण किया जा सकता है.

हालांकि, बैंक के प्रबंधन ने इन संभावनाओं को खारिज किया है. इंडिया इकोनॉमिक कॉनक्लेव में भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा, "मेरा मानना है कि येस बैंक का अधिग्रहण करने के लिए उदय कोटक सबसे उपयुक्त शख्स है. इसके लिए काफी पूंजी की जरूरत है, जो उदय के पास है." एक्सिस बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ चौधरी से जब यह सवाल पूछा गया तो उन्होंने भी अपने जवाब में कुछ इसी तरह का सुझाव दिया. चौधरी ने कहा, "हम (एक्सिस बैंक) छोटे बैंक हैं. हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि हम बड़े बैंक बने ताकि हम किसी स्तर पर दूसरे बैंकों का अधिग्रहण कर सकें. हमारी जगह उदय कोटक इसके लिए ज्यादा सही हैं."

Newsbeep

कोटक महिंद्रा समूह के मुख्य संचार अधिकारी रोहित राव ने कहा, "ये प्रतिक्रियाएं दूसरे बैंकों के शीर्ष अधिकारियों की ओर से आई हैं और उनके विचारों को व्यक्त करती हैं न कि हमारे विचारों को." कुछ जानकारों के मुताबिक, येस बैंक का अधिग्रहण करने से उदय कोटक को कोटक बैंक में अपनी हिस्सेदारी घटाने और रिजर्व बैंक द्वारा निर्धारित स्तर पर लाने में मदद मिल सकती है. इस मामले को लेकर कोटक महिन्द्रा बैंक ने रिजर्व बैंक के खिलाफ अदालत में मामला दायर किया है. मामले पर अगले साल की शुरुआत में सुनवाई होगी. इसी कार्यक्रम में उदय कोटक ने विदेशी निवेशकों को शेयर बेचने का संकेत देते हुए कहा कि भारत के वित्तीय क्षेत्र के "उपनिवेशवाद" का विरोध करना जरूरी है.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)