Profit

डॉलर के मुकाबले रुपया ऑल टाइम लो पर, 69.62 पर हो रहा है कारोबार

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया सोमवार को सर्वकालिक निचले स्तर पर 69.62 पर कारोबार हो रहा है. बताया जा रहा है कि तुर्की संकट के चलते भारतीय रुपये पर असर पड़ा है.

 Share
EMAIL
PRINT
COMMENTS
डॉलर के मुकाबले रुपया ऑल टाइम लो पर, 69.62 पर हो रहा है कारोबार

फाइल फोटो

नई दिल्ली: 

हाइलाइट्स

  1. शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले 79 पैसे गिरा
  2. 69.62 रुपये प्रति डॉलर के रिकॉर्ड निम्नतम स्तर पर आ गया
  3. से अमेरिकी मुद्रा की मांग आने से रुपये पर दबाव रहा.

घरेलू एवं वैश्विक शेयर बाजार में गिरावट के बीच रुपया ने सारी शुरुआती बढ़त खो दी. अंतर बैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया आज शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले 79 पैसे गिरकर 69.62 रुपये प्रति डॉलर के रिकॉर्ड निम्नतम स्तर पर आ गया. इससे पहले सोमवार को रुपया 41 पैसे सुधरकर 68.42 रुपये प्रति डॉलर पर खुला. मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि विदेशी पूंजी निकासी के बीच आयातकों एवं बैंकों की ओर से अमेरिकी मुद्रा की मांग आने से रुपये पर दबाव रहा. शुक्रवार के कारोबारी दिन में रुपया 15 पैसे गिरकर 68.83 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. इससे पहले, 20 जुलाई 2018 को रुपया 69.13 रुपये प्रति डॉलर के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गया था. इस बीच, बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक आज शुरुआती कारोबार में 288 अंक गिरा जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 11,400 अंक के नीचे आ गया.    प्राथमिक आंकडो़ं के अनुसार, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) शुक्रवार को 510.66 करोड़ रुपये के शुद्ध बिकवाल रहे.    

शेयर बाजार: सेंसेक्‍स 280 अंक गिरकर खुला, निफ्टी भी 11,350 पर, वेदांता और SBI के शेयर सबसे ज़्यादा लुढ़के

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक ने जून महीने में भी डॉलर की बिकवाली की. रिजर्व बैंक ने ऐसा लगातार तीसरे महीने किया है. रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार उसने आलोच्य माह में हाजिर बाजार में 6.184 अरब डॉलर बेचे. आंकड़ों के अनुसार आलोच्य माह के दौरान रिजर्व बैंक ने 4.020 अरब डॉलर की खरीदारी की जबकि उसने 10.204 अरब डॉलर बेचे.    इससे पहले मई और अप्रैल में उसने क्रमश: 5.767 अरब डॉलर और 2.483 अरब डॉलर बेचे थे. 

जून 2017 में रिजर्व बैंक डॉलर का शुद्ध खरीदार रहा था. उसने तब हाजिर बाजार में 4.971 अरब डॉलर बेचे जबकि 1.680 अरब डॉलर की खरीदारी की. रिजर्व बैंक ने कहा कि विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में उसका दखल उथल-पुथल को नियंत्रित करने के लिए है न कि घरेलू मुद्रा का कोई स्तर तय करने के लिए. वित्त वर्ष 2017-18 में रिजर्व बैंक 33.689 अरब डॉलर का शुद्ध खरीदार रहा था. उसने इस दौरान 52.068 अरब डॉलर खरीदे जबकि 18.379 अरब डॉलर की बिकवाली की. वित्त वर्ष 2016-17 में रिजर्व बैंक 12.351 अरब डॉलर का शुद्ध खरीदार रहा था.



बिजनेस जगत में होने वाली हर हलचल के अपडेट पाने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें.

NDTV Beeps - your daily newsletter

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

Top