रेटिंग एजेंसी मूडीज ने दिया भारत को झटका,आर्थिक वृद्धि का हवाला देकर घटाई भारत की रेटिंग

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की रेटिंग पर अपना रूख को बदलते हुए इसे ‘स्थिर’ से ‘नकारात्मक’ कर दिया है. एजेंसी ने कहा कि पहले के मुकाबले आर्थिक वृद्धि के बहुत कम रहने की आशंका है.

रेटिंग एजेंसी मूडीज ने दिया भारत को झटका,आर्थिक वृद्धि का हवाला देकर घटाई भारत की रेटिंग

प्रतीकात्मक चित्र.

नई दिल्ली:

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की रेटिंग पर अपना रूख को बदलते हुए इसे ‘स्थिर' से ‘नकारात्मक' कर दिया है. एजेंसी ने कहा कि पहले के मुकाबले आर्थिक वृद्धि के बहुत कम रहने की आशंका है. एजेंसी ने भारत के लिए बीएए 2 विदेशी-मुद्रा एवं स्थानीय मुद्रा रेटिंग की पुष्टि की है. रेटिंग एजेंसी ने एक बयान में कहा,"परिदृश्य को नकारात्मक करने का मूडीज का फैसला आर्थिक वृद्धि के पहले के मुकाबले काफी कम रहने के बढ़ते जोखिम को दिखाता है. मूडीज के पूर्व अनुमान के मुकाबले वर्तमान की रेटिंग लंबे समय से चली आ रही आर्थिक एवं संस्थागत कमजोरी से निपटने में सरकार एवं नीति के प्रभाव को कम होते हुए दिखाती है. जिस कारण पहले ही उच्च स्तर पर पहुंचा कर्ज का बोझ धीरे-धीरे और बढ़ सकता है".

गौरतलब है कि इससे पहले आईएमएफ ने अपनी विश्व आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था. हालांकि उसे उम्मीद है कि 2020 में इसमें सुधार होगा और तब देश की आर्थिक वृद्धि दर सात प्रतिशत पर रह सकती है. यह वर्ष 2018 में भारत की वास्तविक आर्थिक वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत से भी कम है. इससे पहले वर्ल्ड बैंक ने भी बीते अपनी दक्षिण एशिया आर्थिक परिदृश्य की नवीनतम रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में गिरकर छह प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था. जबकि 2018 में यह 6.9 प्रतिशत थी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
More News