घरेलू कपड़ा उद्योग में सुधार के संकेत : सीआईटीआई

कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज (सीआईटीआई) के अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि देश के कपड़ा उद्योग का बुरा दौर समाप्त हो गया है.

घरेलू कपड़ा उद्योग में सुधार के संकेत : सीआईटीआई

जुलाई में देश का कपड़ा निर्यात पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 11 फीसदी बढ़ा है.

नई दिल्ली:

कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज (सीआईटीआई) के अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि देश के कपड़ा उद्योग का बुरा दौर समाप्त हो गया है और अब सुधार के संकेत मिल रहे हैं. संजय जैन ने कहा कि चालू वित्त वर्ष 2018-19 में भारत का वस्त्र एवं परिधान निर्यात सात फीसदी सालाना दर से बढ़ सकता है. उन्होंने बताया कि बीते महीने जुलाई में देश का कपड़ा निर्यात पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 11 फीसदी बढ़ा है और कपड़े के सभी मदों के निर्यात में वृद्धि दर्ज की गई.

संजय जैन ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से उद्योग को सहारा मिला है. उन्होंने कहा कि सरकार ने वस्त्र और परिधान के विभिन्न मदों पर आयात कर बढ़ा कर घरेलू उद्योग को प्रोत्साहन दिया है और इससे आने वाले दिनों में कपड़े का आयात घटेगा जिससे घरेलू उद्योग को मदद मिलेगी. भारत ने जुलाई में 6,284 करोड़ रुपये का कॉटन यार्न, फेब्रिक, मेडअप और हैंडलूम उत्पादों का निर्यात किया जोकि पिछले साल के मुकाबले 23 फीसदी ज्यादा है. 

Newsbeep

टेक्सटाइल निर्यात 10,879 करोड़ रुपये रहा, जोकि पिछले साल के मुकाबले 15 फीसदी अधिक है. कॉरपेट निर्यात 774 करोड़ रुपये का हुआ जोकि पिछले साल के मुकाबले 14 फीसदी ज्यादा है. अपेरल निर्यात में पिछले साल के मुकाबले इस साल जुलाई में छह फीसदी की बढ़ोतरी हुई. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)