संयुक्त अरब अमीरात में तेल क्षेत्र के लिये बोली लगाएंगी भारतीय कंपनियां

बोली के अगले दौर में भारतीय कंपनियां मुबादाला जैसी यूएई की कंपनियों के साथ मिलकर बोली लगाएंगी.

संयुक्त अरब अमीरात में तेल क्षेत्र के लिये बोली लगाएंगी भारतीय कंपनियां

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि भारतीय तेल कंपनियां संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की ऊर्जा कंपनियों के साथ गठजोड़ करेगी और यूएई में तेल ब्लाक के लिये संयुक्त रूप से बोली लगाएंगी. भारत आये खाड़ी देश के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान के साथ बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा , ‘‘ बोली के अगले दौर में भारतीय कंपनियां मुबादाला जैसी यूएई की कंपनियों के साथ मिलकर बोली लगाएंगी. ’’

उन्होंने कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच संबंध खरीदार - बिक्रेता से कहीं आगे बढ़ गया है और दोनों देश निवेश के मामले में एक - दूसरे के पूरक बन गये हैं. 

अबू धबी नेशनल आयल कंपनी (एडीएनओसी) ने भारत के भूमिगत तेल भंडारण में क्षमता हासिल की है. वहीं सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी विदेश लि . तथा उसकी भागीदारों ने यूएई तेलफील्ड में 10 प्रतिशत हिस्सेदारी ली है. 

पश्चिम एशिया की बड़ी ऊर्जा कंपनियां दुनिया के तीसरे सबसे बड़े और तीव्र वृद्धि वाले उपभोक्ता देश भारत में अवसर देख रही हैं. 

सऊदी अरामको और एडीएनओसी ने महाराष्ट्र के रत्नागिरी में 44 अरब डालर की रिफाइनरी सह पेट्रोरसायन परिसर में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी ली है. प्रधान ने कहा , ‘‘ तेल उत्पादक कंपनियां भारती बस को नहीं छोड़ना चाहती. ’’

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
More News