31 मार्च तक हो सकता है इंडियन बैंक का इलाहाबाद बैंक के साथ विलय

सरकार ने पिछले सप्ताह सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों के एकीकरण के जरिये चार बैंक बनाने की घोषणा की थी.

31 मार्च तक हो सकता है इंडियन बैंक का इलाहाबाद बैंक के साथ विलय
नई दिल्ली:

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन बैंक को उम्मीद है कि इलाहाबाद बैंक के साथ उसका विलय चालू वित्त वर्ष के अंत तक यानी 31 मार्च, 2020 तक पूरा हो जाएगा. इंडियन बैंक की प्रबंध निदेशक पद्मजा चुंदरू ने यह जानकारी दी. सरकार ने पिछले सप्ताह सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों के एकीकरण के जरिये चार बैंक बनाने की घोषणा की थी. इसी घोषणा के तहत इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक के साथ विलय होना है. चुंदरू ने कहा, ‘‘पहले हमें बोर्ड में जाना होगा. एक प्रक्रिया का पालन करना होगा. अगले कुछ माह के दौरान दोनों बैंकों के निदेशक मंडल प्रक्रिया को पूरा करेंगे. मुझे लगता है कि यह प्रक्रिया 31 मार्च तक पूरी हो जाएगी.'' 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं, बैंकों के विलय से नहीं जाएगी किसी की नौकरी

इंडियन बैंक को पिछले सप्ताह वित्त मंत्रालय से सूचित किया गया है कि वैकल्पिक व्यवस्था ने रिजर्व बैंक के साथ विचार विमर्श के बाद विलय के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. यह पूछे जाने पर कि विलय के लिए बैठक कब होगी, उन्होंने कहा कि यह जल्द होगी. उन्होंने कहा कि इस बारे में बैठक इसी सप्ताह या अगले सप्ताह के शुरू में हो सकती है.

बैंक कर्मियों का सरकारी बैंकों के विलय निर्णय का विरोध

चुंदरू ने कहा कि इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक के विलय से ऐसा बैंक अस्तित्व में आएगा जिसकी अखिल भारतीय स्तर पर उपस्थिति होगी. अभी इंडियन बैंक की दक्षिण भारत में मजबूत उपस्थिति है जबकि इलाहाबाद बैंक की उपस्थिति उत्तरी और पूर्वी भारत में है. उन्होंने कहा कि विलय के बाद हमारी प्रमुख प्राथमिकता कारोबार और मुनाफा वृद्धि के अलावा कर्मचारी प्रबंधन और कल्याण की होगी. उन्होंने शाखाओं को बंद करने और कर्मचारियों की छंटनी से इनकार किया.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
More News