खादी को विश्वस्तरीय ब्रांड बनाना चाहती है सरकार

प्रभु ने कहा कि इसे हासिल करने के लिए नए डिजाइन और स्टाइल जरूरी हैं. 

खादी को विश्वस्तरीय ब्रांड बनाना चाहती है सरकार

एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु.

नई दिल्ली:

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि सरकार का इरादा खादी को वैश्विक वस्त्र या विश्वस्तरीय ब्रांड बनाने का है. खादी में वैश्विक वृद्धि को प्रोत्साहन देने की क्षमता है. प्रभु ने कहा कि इसे हासिल करने के लिए नए डिजाइन और स्टाइल जरूरी हैं. 

उन्होंने फिक्की, आईआईएफटी और खादी इंडिया द्वारा आयोजित सम्मेलन को वीडियो संदेश के जरिये संबोधित करते हुए यह बात कही. मंत्री ने कहा, ‘‘खादी को विश्वस्तरीय बनाने के लिए जिला स्तर पर विकास जरूरी है. इससे आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहन मिलेगा. इसके लिए पांच राज्यों में छह जिलों की पहचान पायलट परियोजना के लिए की गई है. ’’ 

विदेश व्यापार महानिदेशक आलोक वर्धन चतुर्वेदी ने कहा कि खादी क्षेत्र में 80 लाख लोगों को रोजगार मिला हुआ है. सरकार के सहयोग और प्रोत्साहन से एक बार इसे उद्योग को रफ्तार मिल सकती है लेकिन दीर्घावधि के लिए इस उद्योग को सतत मांग की जरूरत है. भारतीय रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि खादी को राष्ट्रीय गौरव का चिह्न बनाने की जरूरत है. 

लोहानी को रेलवे को दैनिक आधार पर चार लाख बिस्तरों की जरूरत होती है. हम खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के साथ उचित दरों ‘ डिस्पोजेबल’ खादी बिस्तर और तौलिये के लिए रणनीति बनाने को लेकर भागीदारी को तैयार हैं.