डीजल वाहनों की मांग में कमी के चलते वाहनों के पेट्रोल संस्करण विकसित कर रही महिंद्रा

कंपनी ने 2017-18 की अपनी वार्षिक रपट में कहा कि वह अपने डीजल इंजन वाले वाहनों को भारत स्टेज-6 मानकों पर खरा उतरने के लिए भी काम कर रहा है. 

डीजल वाहनों की मांग में कमी के चलते वाहनों के पेट्रोल संस्करण विकसित कर रही महिंद्रा

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

कार, जीप बनाने वाली घरेलू कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा अपनेअधिकतर मॉडलों के लिए पेट्रोल इंजन विकसित कर रही है. इसकी अहम वजह पिछले कुछ सालों में कंपनी के डीजल वाहनों की मांग में कमी आना है. कंपनी ने 2017-18 की अपनी वार्षिक रपट में कहा कि वह अपने डीजल इंजन वाले वाहनों को भारत स्टेज-6 मानकों पर खरा उतरने के लिए भी काम कर रहा है. 

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा, ‘‘डीजल वाहनों पर अधिक कर की वजह से उनकी बिक्री घटी है. 2012-13 के मुकाबले 2017-18 में उसकी कुल बिक्री में 58% की कमी आयी है.’’

कंपनी ने कहा कि वह अपने अधिकतर मॉडलों का पेट्रोल संस्करण पेश करने की प्रक्रिया में है. साथ ही एक अप्रैल 2020 से देश में भारत स्टेज-6 उत्सर्जन मानक लागू होने हैं ऐसे में डीजल और पेट्रोल दोनों वाहनों के दाम बढ़ेंगे.

महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा विभिन्न स्पोट्र्स यूटिलिटी व्हीकल्स (एसयूवी) की बिक्री करता है.इनमें एक्सयूवी 500, सकोर्पियो, टीयूवी 300 और केयूवी 100 शामिल हैं. कंपनी अपने विभिन्न वाहनों के डीजल संस्करण के स्थान पर पेट्रोल संस्करण लाने की प्रक्रिया में है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com