This Article is From Sep 19, 2019

दिल्ली में 3 दिनों मे 68 पैसे लीटर महंगा हुआ पेट्रोल, 58 पैसे बढ़े डीजल के दाम

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस सप्ताह के आरंभ में कच्चे तेल के दाम में जोरदार उछाल आने के बाद से भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम में भारी वृद्धि हुई है

दिल्ली में 3 दिनों मे 68 पैसे लीटर महंगा हुआ पेट्रोल, 58 पैसे बढ़े डीजल के दाम

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

पेट्रोल और डीजल के दाम में फिर लगातार तीसरे दिन वृद्धि का सिलसिला जारी है. पेट्रोल गुरुवार को दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में 29 पैसे जबकि चेन्नई में 30 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया. डीजल के दाम फिर दिल्ली और कोलकाता में 19 पैसे जबकि मुंबई और चेन्नई में 20 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए हैं. देश की राजधानी दिल्ली में इन तीन दिनों में पेट्रोल 68 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया है और डीजल के दाम भी 58 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए हैं. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस सप्ताह के आरंभ मंे कच्चे तेल के दाम में जोरदार उछाल आने के बाद से भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम में भारी वृद्धि हुई है और विशेषज्ञों का अनुमान है कि खाड़ी क्षेत्र में जारी सैन्य तनाव के कारण कच्चे तेल के दाम में तेजी का रुख बना रह सकता है. त्योहारी सीजन में तेल के दाम में वृद्धि होने से चिंता का विषय यह है कि इससे आम उपभोक्ताओं पर मंहगाई की मार पड़ेगी.

इंडियन ऑयल की बेवसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम बढ़कर क्रमश: 72.71 रुपये, 75.43 रुपये, 78.39 रुपये और 75.56 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं. चारों महानगरों में डीजल के दाम भी बढ़कर क्रमश: 66.01 रुपये, 68.42 रुपये, 69.24 रुपये और 69.77 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं. 

सउदी अरब की सरकारी तेल उत्पादक कंपनी अरामको के संयंत्रों पर पिछले सप्ताह हुए ड्रोन हमलों के बाद सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड का भाव करीब 20 फीसदी के उछाल के साथ 71 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चला गया था, जोकि 28 साल बाद एक दिन की सबसे बड़ी तेजी थी. इससे पहले 14 जनवरी 1991 को ब्रेंट के भाव में 21.54 फीसदी का उछाल आया था. 

उर्जा विशेषज्ञ नरेंद्र तनेजा ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि सउदी से तेल की आपूर्ति बाधित होने से कहीं ज्यादा तेल के दाम में वृद्धि भारत के लिए चिंता का विषय है क्योंकि तेल भारतीय अर्थव्यवस्था की धुरी है और इस त्योहारी सीजन में कच्चे तेल के दाम में बढ़ोतरी होने से लोगों लोगों की चिंता और बढ़ जाएगी और हमारे दैनिक जीवन के उपयोग में आने वाली 60 फीसदी वस्तएं तेल से बनी है. 

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पर गुरुवार को ब्रेंट क्रूड के नवंबर अनुबंध में महज 0.09 फीसदी की बढ़त के साथ 63.66 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था. वहीं, अमेरिकी लाइट क्रूड का नवंबर अनुबंध न्यूयार्क मर्के टाइल एक्सचेंज पर 0.26 फीसदी की तेजी के साथ 58.19 डॉलर प्रति बैरल पर बना हुआ था. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)