सोमवार को लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स में 3934.72 अंकों की गिरावट

दुनिया भर में कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए की जा रही बंदी के चलते सेंसेक्स ने सुबह के सत्र में निचली सर्किट सीमा को छू लिया, जिसके कारण कारोबार को 45 मिनट के लिए बंद कर दिया गया.

सोमवार को लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स में 3934.72 अंकों की गिरावट

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

कोरोना के कारण शेयर बाजार में गिरावट का दौैर सोमवार को भी दिन भर चलता रहा, दिन के कारोबार की समाप्ति के समय सेंसेक्स मे ं3934.72 अंकों की गिरावट दर्ज की गयी और सेंसेक्स 25981.24 के आंकड़ों पर बंद हुआ वहीं निफ्टी 7610.25 के आंकड़ों पर रहा. बता दें कि प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स में सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान ही लगभग 3,000 अंकों की भारी गिरावट हुई थी. दुनिया भर में कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए की जा रही बंदी के चलते सेंसेक्स ने सुबह के सत्र में निचली सर्किट सीमा को छू लिया था, जिसके कारण कारोबार को 45 मिनट के लिए बंद कर दिया गया था. वहीं, भारतीय रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 95 पैसे की गिरावट के साथ 76.15 के स्तर पर आ गया था. 

इस समय दुनिया भर में भारी मंदी की आशंकाएं जताई जा रही हैं. बीएसई सेंसक्स सुबह के कारोबार में 2,718 अंक गिरकर खुला और उसके बाद यह 2,991.85 अंकों या 10 प्रतिशत की गिरावट के साथ 26,924.11 पर आ गया. इसी तरह एनएसई निफ्टी 842.45 अंक या 9.63 प्रतिशत गिरकर 7,903 पर आ गया.

शेयर बाजार की स्वचालित व्यवस्था के अनुसार जब बाजार दोपहर एक बजे से पहले 10 प्रतिशत गिरता है, तो शेयर बाजारों में 45 मिनट के लिए कारोबार रुक जाता है. सुबह के कारोबार में सेंसेक्स के सभी घटक घाटे में कारोबार कर रहे थे. एक्सिस बैंक में 20 प्रतिशत तक गिरावट हुई. इसके बाद आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक, बजाज फाइनेंस, हीरो मोटोकॉर्प और एमएंडएम में भी तेज बिकवाली हुई. कारोबारियों के अनुसार भारत और दुनिया भर में सरकारों के बंदी की घोषणा से निवेशकों की धारणा में भारी दबाव आया.


वहीं, भारतीय रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 95 पैसे की गिरावट के साथ 76.15 के स्तर पर आ गया. इस दौरान देश में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों और घरेलू इक्विटी बाजार में भारी बिकवाली के चलते रुपये पर दबाव देखने को मिला. कारोबारियों के मुताबिक बाजार प्रतिभागी इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से अर्थव्यवस्था प्रभावित हो सकती है. देश में इस समय कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर करीब 400 हो चुकी है.

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में कमजोर शुरुआत के साथ रुपया 75.90 पर खुला और आगे गिरावट के साथ अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 76.15 के निचले स्तर पर आ गया. रुपये में पिछले बंद भाव के मुकाबले 95 पैसे से अधिक की गिरावट दर्ज की गई. रुपया शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 75.20 पर बंद हुआ था.

कारोबारियों ने कहा कि निवेशकों में चिंता की भावना है क्योंकि वे दुनिया के दूसरे देशों के साथ ही घरेलू अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस महामारी के कारण गहरे संकट में पड़ता हुआ देख रहे हैं. इस बीमारी के चलते दुनिया भर में लाखों लोग संक्रमित हैं और 14,000 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.
 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)