उपभोक्ता विश्वास डगमगाया, चालू वित्तवर्ष में 1.5 प्रतिशत आर्थिक गिरावट के आसार : RBI सर्वे

कोरोनावायरस महामारी की वजह से उपभोक्ता का विश्वास पूरी तरह डगमगा चुका है और इससे चालू वित्तवर्ष 2020-21 में अर्थव्यवस्था में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है.

उपभोक्ता विश्वास डगमगाया, चालू वित्तवर्ष में 1.5 प्रतिशत आर्थिक गिरावट के आसार : RBI सर्वे

प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई:

कोरोनावायरस महामारी की वजह से उपभोक्ता का विश्वास पूरी तरह डगमगा चुका है और इससे चालू वित्तवर्ष 2020-21 में अर्थव्यवस्था में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गुरुवार को जारी एक सर्वे में यह अनमान लगाया गया है.

रिजर्व बैंक के उपभोक्ता विश्वास सर्वे में कहा गया है, "मई, 2020 में उपभोक्ताओं का भरोसा पूरी तरह टूट चुका था... मौजूदा स्थिति इंडेक्स (CSI) अपने ऐतिहासिक निचले स्तर पर आ गया है..." इसके अलावा एक साल आगे के भविष्य की संभावनाओं के इंडेक्स में भी भारी गिरावट आई है और यह निराशावाद के क्षेत्र में पहुंच चुका है.

एक अन्य सर्वे के अनुसार चालू वित्तवर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी. हालांकि, अगला वित्तवर्ष कहीं बेहतर रहने की उम्मीद है. रिजर्व बैंक द्वारा प्रायोजित 'प्रोफेशनल फोरकास्टर्स' (SPF) के सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक GDP में 2020-21 में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी. हालांकि, अगले वित्तवर्ष में यह वृद्धि राहत की ओर लौटेगी और इसमें 7.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होगी.

सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक निजी अंतिम उपभोग व्यय (PFCE) में चालू वित्तवर्ष में 0.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी. हालांकि, अगले वित्तवर्ष में इसमें 6.9 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद है. सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक सकल निश्चित पूंजी सृजन (GFCF) में 2020-21 में 6.4 प्रतिशत की गिरावट आएगी. हालांकि अगले वित्तवर्ष 2021-22 में इसमें 5.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होगी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)