Profit

अब केंद्र के अधीन काम करने वाली इन कंपनियों के लाखों कर्मचारियों को मिलेगा पेंशन योजना का लाभ

बता दें कि कुछ साल पहले सरकार ने सेना को छोड़ कर सरकारी नौकरियों में पेंशन की व्यवस्था को पूरी तरह से खत्म कर दिया था.

 Share
EMAIL
PRINT
COMMENTS
अब केंद्र के अधीन काम करने वाली इन कंपनियों के लाखों कर्मचारियों को मिलेगा पेंशन योजना का लाभ

सरकारी स्टील कंपनियों में पेंशन योजना होगी लागू.

नई दिल्ली: 

हाइलाइट्स

  1. सरकार ने कंपनियों की मांग पर हामी भरी
  2. केंद्रीय मंत्री ने खुद की घोषणा
  3. योजना का खर्चा कंपनियां वहन करेंगी.

देश में सरकारी स्टील कंपनियों में काम करने वाले लाखों लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है. यहां पर काम करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को अब पेंशन स्कीम का फायदा मिलेगा. बता दें कि कुछ साल पहले सरकार ने सेना को छोड़ कर सरकारी नौकरियों में पेंशन की व्यवस्था को पूरी तरह से खत्म कर दिया था. सरकार का मानना था कि सरकार पर इससे अध्यधिक खर्चा आता है. लेकिन अब इस प्रकार के कदम ऐसी कंपनियों में काम करने वाले लाखों लोगों के लिए बड़ी राहत और खुशखबरी लेकर आया है. इतना ही नहीं इसी के साथ कंपनियों से रिटायर्ड लोगों को भी इस पेंशन योजना का लाभ मिलेगा. 

पढ़ें- नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) के बारे में पूरी जानकारी यहां पढ़ें

हाल ही में इस्पात मंत्रालय ने नियंत्रण में विभिन्न केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों (CPSEs) से प्राप्त प्रस्ताव पर सहमति जताई है. यह सहमति पेंशन योजना को लेकर जताई है.  पेंशन योजना को अधिकारियों के मामले में 1 जनवरी 2007 और गैर-अधिकारियों के मामले में 1 जनवरी 2012 या कंपनी द्वारा तय की गई अगली तारीख से लागू किया जाएगा.

पढ़ें- निजी क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए नेशनल पेंशन स्कीम से जुड़ी यह अच्छी खबर...

यह समझौता सेल (SAIL), आरआईएनएल (RINL), एमएसटीसी (MSTC), एफएसएनएल (FSNL), एमईकॉन (MECON) और केआईओसीएल (KIOCL) से संबंधित कर्मचारियों के संघों और अधिकारियों के प्रतिनिधियों के साथ विस्तृत परामर्श के बाद किया गया है. पेंशन योजना इस्पात मंत्रालय के तहत CPSEs के 94,000 से अधिक कार्यरत और 56,000 सेवानिवृत्त कर्मचारियों को लाभान्वित करेगी और प्रति माह 45 करोड़ रुपये का अतिरिक्त वित्तीय खर्च होगा.

पढ़ें- अच्छी खबर: नेशनल पेंशन स्कीम के लाभार्थी जरूरी कामों के लिए निकाल सकेंगे पैसे

जानकारी के लिए बता दें कि इस बात की घोषणा खुद विभाग से संबंधित केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने की है .  घोषणा के साथ ही मंत्री ने यह भी बताया कि कंपनियों के कर्मचारियों और अधिकारियों को मेडिकल की सुविधाएं पहले ही दी जा रही हैं. बड़ी बात यह है कि मंत्री ने यह भी साफ कर दिया है कि इस पूरी योनजा का वहन कंपनियां स्वयं उठाएंगी और सरकार पर इसका बोझ नहीं आएगा. मंत्री ने कहा कि स्कीम लागू करने और उससे किस प्रकार कंपनियों के कर्मचारियों और अधिकारियों पर लागू किया जाएगा, इस पर कंपनी का मैनेजमेंट विचार विमर्श कर अंतिम निर्णय लेगा. 



बिजनेस जगत में होने वाली हर हलचल के अपडेट पाने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें.

NDTV Beeps - your daily newsletter

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

................................ Advertisement ................................

Top