This Article is From Feb 25, 2019

अडाणी समूह को पांच हवाईअड्डों का 50 साल तक परिचालन का ठेका मिला

अडाणी समूह को निजीकरण के लिए पेश 6 में से 5 हवाईअड्डों का 50 साल तक परिचालन करने का ठेका मिला है.

अडाणी समूह को पांच हवाईअड्डों का 50 साल तक परिचालन का ठेका मिला

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

अडाणी समूह को निजीकरण के लिए पेश 6 में से 5 हवाईअड्डों का 50 साल तक परिचालन करने का ठेका मिला है. भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी. अधिकारी ने बताया कि अहमदाबाद, तिरुवनंतपुरम, लखनऊ, मेंगलुरु और जयपुर हवाईअड्डों के परिचालन के लिए अडाणी समूह ने सबसे ऊंची बोली लगाई है. गुवाहटी हवाईअड्डे के लिए भेजी गई बोलियां मंगलवार को खोली जाएंगी. प्राधिकरण ने विजेता का चुनाव 'मासिक प्रति यात्री शुल्क' के आधार पर किया है. अधिकारी ने बताया कि अडाणी समूह ने जो बोलियां लगाई वह अन्य बोली लगाने वालों की तुलना में अपेक्षाकृत काफी ज्यादा थीं. औपचारिकताएं पूरी करने के बाद यह पांचों हवाईअड्डे अडाणी समूह को सौंप दिए जाएंगे.

प्राधिकरण ने एक प्रेस वक्तव्य में बताया कि प्रति यात्री शुल्क के आधार पर अडाणी समूह ने अहमदाबाद के लिए 177 रुपये, जयपुर के लिए 174 रुपये, लखनऊ के लिए 171 रुपये, तिरुवनंतपुरम के लिए 168 रुपये और मेंगलुरु के लिए 115 रुपये की बोली लगाई. यह राशि अडाणी समूह इन हवाईअड्डों का परिचालन मिलने पर प्राधिकरण को देगा. जीएमआर एयरपोट्र्स लिमिटेड ने इनके लिए क्रमश: 85 रुपये, 69 रुपये, 63 रुपये, 63 रुपये और 18 रुपये की बोली लगाई थी. जीएमआर दिल्ली और हैदराबाद हवाईअड्डों का परिचालन करती है. अहमदाबाद और जयपुर के लिए दूसरी सबसे ऊंची बोली क्रमश: 146 रुपये और 155 रुपये राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष (एनआईआईएफ) और ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल ने संयुक्त तौर पर लगाई थी.

लखनऊ हवाईअड्डे के लिए दूसरी ऊंची बोली एएमपी कैपिटल ने 139 रुपये और तिरुवनंतपुरम के लिए केरल राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने 135 रुपये की लगाई. मेंगलुरु हवाईअड्डे के लिए कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने 45 रुपये की दूसरी सबसे ऊंची बोली लगाई. अभी इन हवाईअड्डों का प्रबंधन प्राधिकरण देखता है. इन छह हवाईअड्डों के परिचालन के लिए 10 कंपनियों ने तकनीकी तौर पर कुल 32 बोलियां लगाईं.

पिछले साल नवंबर में सरकार ने इन हवाईअड्डों को लोक-निजी भागीदारी के आधार पर चलाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी. अहमदाबाद और जयपुर हवाईअड्डे के लिए सात-सात, लखनऊ और गुवाहाटी के लिए छह-छह एवं मेंगलुरु और तिरुवनंतपुरम के लिए तीन-तीन बोलियां प्राप्त हुईं.